ऑपरेशन संबंधी जानकारी

ई.आर.नेट नेटवर्क की गहन मॉनिटरिंग की जाती है। एक निष्क्रिय उपाय के रूप में, एसएनएमपी इंटरफेस संबंधी आंकड़े, बाइट और पैकेट प्रति सेकेंड दोनों रूप में दर्ज किए जाते हैं और संशोधित एमआरटीजी ग्राफ द्वारा देखे जाते हैं।

ई.आर.नेट प्वाइंट ऑफ प्रेजेन्स निरंतर पियरिंग, बैकबोन और यूजर लिंक्स की मॉनिटरिंग करता है।  पैमाइश में शामिल है :

  • लिंक उपलब्धता
  • लिंक उपयोगिता
  • संबंधित साइटों द्वारा जेनरेट ट्रैफिक का ब्रेकअप
  • स्केलेबल, सुरक्षित और गारंटिड QoS

वे सेवाएं जिनके द्वारा हम कार्यनिष्पादन आंकड़ों की पैमाइश करते हैं, उनमें वेब, एफटीपी, ई-मेल आदि शामिल है। यूजर साइट पर उपयोगकर्ताओं द्वारा प्राप्त वेब डाउनलोड सेशन थ्रूपुट की पैमाइश की जाती है। ई.आर.नेट इंडिया निम्नलिखित के लिए मासिक आंकड़ें जेनरेट करता है :

प्रत्येक उपयोगकर्ता के लिए इनकमिंग/आउटगोइंग मेल की संख्या के आधार पर ई-मेल ट्रेफिक।

  • स्पैम
  • इनफेक्टिड मेल।

ई.आर.एन.आई.सी. (ई.आर.नेट नेटवर्क इन्फॉर्मेशन सेंटर)

ई.आर.निक अपने ग्राहकों को इंटरनेट प्रोटोकॉल (आईपी एड्रेस स्पेस (IPv4 & IPv6) और  in-addr.arpa  डोमेन डेलिगेशन उपलब्ध करता है। ई.आर.निक  द्वारा चलाई जाने वाली विभिन्न गतिविधियों में निम्नलिखित शामिल हैं :

विभिन्न प्वाइंट ऑफ प्रेजेन्स और उपयोगकर्ताओं को Ips (टेरेस्ट्रियल के साथ-साथ SATWAN) का आबंटन।

  • प्रत्येक कस्टूमर लोकशन से प्रशासन और तकनीकी संपर्क वाले व्यक्ति के बारे में जानकारी एकत्र करना और उनके लिए एनआईसी हैंडल सृजित करना।
  • APNIC डेटाबेस में इनेटनम ऑबेजक्ट (ऑब्जेक्ट द्वारा निर्धारित आईपी एड्रेस स्पेस की रेंज) के बारे में जानकारी को अद्यतन करना। 
  • नेम सर्वरों पर रिवर्स डीएनएस जोन सृजित करने के लिए विभिन्न प्वाइंट ऑफ प्रेजनेस के साथ समन्वय स्थापित करना और रिवर्स डोमेन को APNIC के साथ पंजीकृत करना।
  • ई.आर.नेट संसाधनों के किसी गैर-कानूनी उपयोग के संबंध में प्राप्त शिकायतों पर उचित कार्रवाई करना।

ई.आर.नेट इंडिया के लिए आबंटित आई.पी.एड्रेस

1. IPv4 एड्रेस

  • 144.16.0.0/16
  • 202.41.64.0/18
  • 202.141.0.0/17
  • 202.141.128.0/19

2. IPv6 एड्रेस

  • 2001:0E30::/32

3. इसके अलावा उपयोगकर्ता को निम्नलिखित स्थितियों में आई.पी.आधारित एलोकेशन दी जा सकती हैं :

  • आई.पी. ई.आर.नेट से संबद्ध होते हैं और क्स्टूमर को ई.आर.नेट बैंडविड्थ कनेक्टिविटी के साथ निशुल्क उपलब्ध कराए जाते हैं।
  • उपयोगकर्ता ई.आर.नेट से आनुपातिक कनेक्टिविटी मिलने तक इन आई.पी. का उपयोग करेंगे। यदि उपयोगकर्ता को आनुपातिक कनेक्टिविटी नहीं मिल पाती है तो आई.पी. स्वतः वापस हो जाएगी।
  • उपयोगकर्ता भारतीय साइबर कानून का पालन करेंगे और उनके दुरुपयोग के लिए जिम्मेदार होंगे।
  • उपयोगकर्ताओं को किसी अन्य आईएसपी के माध्यम से ई.आर.नेट के आई.पी. का प्रचार करने के लिए ई.आर.नेट की सहमति लेनी होगी। 
  • आटोनॉमस सिस्टम (AS) नंबर

    इंटरनेट में कनेक्टिड इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) का कलेक्शन एक आटोनॉमस सिस्टम है, जो एक या अधिक नेटवर्क ऑपरेटरों के नियंत्रण में प्रीफिक्स की रूटिंग करता है, जो इंटरनेट के लिए रूटिंग पॉलिसी को स्पष्ट करता है।

    मूलतः, इसकी परिभाषा के लिए एक एकल सत्ता का नियंत्रण अपेक्षित है, विशेषकर एक इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर अथवा मल्टीपल नेटवर्क वाले स्वतंत्र कनेक्शनों वाले एक बहुत बड़े संगठन, जो एक एकल और स्पष्ट परिभाषित रूटिंग पॉलिसी से समर्थित होता है, को मूल रूप से आर.एफ.सी. 1771 में परिभाषित किया गया है। आर.एफ.सी.1930 में नई परिभाषा उपयोग में लाई गई क्योंकि मल्टीपल ऑर्गेनाइजेशन किसी आईएसपी पर प्राइवेट ए.एस.नंबरों का उपयोग करते हुए बीजीपी को चला सकती हैं, जो इंटरनेट पर उन सभी ऑर्गेनाइजेशन को कनेक्ट कर देता है। यद्यपि आईएसपी द्वारा समर्थित मल्टीपल आटोनॉमस सिस्टम हो सकते हैं, इंटरनेट केवल आईएसपी की रूटिंग पॉलिसी को देखता है। उक्त आईएसपी का एक अधिकारिक आटोनॉमस सिस्टम नंबर (ए.एस.एन.) अवश्य होना चाहिए।

    बीजीपी रूटिंग के लिए प्रत्येक ए.एस. को एक अलग ए.एस.एन. आबंटित किया जाता है। चूंकि ए.एस.एन. इंटरनेट पर प्रत्येक नेटवर्क को अलग रूप में पहचानता है, ए.एस.नंबर महत्वपूर्ण होते हैं।

    ई.आर.नेट नेटवर्क एक्सटर्नल नेटवर्क के साथ बीजीपी पीयरिंग के लिए 2697 ए.एस.नंबर का उपयोग करता है।  ई.आर.नेट का सुझाव है कि जो भी संगठन एक से अधिक ट्रांजिट प्रोवाइडर के कनेक्ट होता है, उसे APNIC से एक पब्लिक ए.एस. नंबर लेना चाहिए।

Hindi