अशक्त विद्यार्थियों के लिए आईसीटी वोकेशनल सेंटर

पायलट प्रोजेक्ट के सफल क्रियान्वयन के बाद, जिसमें 21 विद्यालयों - तमिलनाडु में 10 और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में 11 - में आईसीटी केंद्र स्थापित किए गए थे - ई.आर.नेट इंडिया ने प्रोजेक्ट के दबसरे चरण की कार्रवाई आरंभ कर दी है। इस चरण में, यह प्रस्तावित है कि पूरे देश में 100 स्थानों पर वोकेशनल सेंटर स्थापित किए जाएं। विभिन्न अपंगता वाले बच्चों, कुष्ठ रोगियों और शारीरिक रूप से विकलांगों को भी इस चरण के अंतर्गत लिया जा रहा है। 17 राज्यों के 50 विद्यालयों में आईसीटी इन्फ्रास्ट्रक्चर की स्थापनी की जा रही है। प्रयेक केंद्र में कंप्यूटर फर्नीचर, यू.पी.एस., लोकल एरिया नेटवर्क एन्वायरमेंट, डेस्कटॉप कंप्यूटरों, सर्वरों और विकलांग बच्चों के लिए सहायक उपकरणों की सुविधाएं जुटाई जा रही हैं।  विद्यालयों में इंटरनेट और इंट्रानेट एक्सेस करने, एप्लीकेशंस, कंटेंट विकलांग बच्चों को प्रशिक्षण देने वाले अनुदेशकों की सुविधाएं भी मुहैया कराई जा रही हैं। कंप्यूटर पर मॉडल सहित विशेष पाठ्यक्रमों, सहायक उपकरणों के उपयोग, अंग्रेजी भाषा, व्यक्तित्व विकास और कौशल के विकास के लिए जॉब ओरियंटेड एप्लीकेशंस का डिजाइन किया जा रहा है।

Hindi