पूर्व परियोजनाएं

नेशनल क्वालिटी ऑफ सर्विस टैस्ट बैड

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग (DIT) ने ज्ञान आधारित समाज के बढ़ते रूझानों को पूरा करने के लिए आईपी आधारित एक राष्ट्रव्यापी क्वालिटी ऑफ सर्विस नेटवर्क स्थापित करने के लिए धनराशि जुटाई है ताकि उपयोगकर्ताओं को समस्त संसाधन (शैक्षणिक, व्यावसायिक, सामाजिक और वाणिज्यिक) और इंटरनेट इनेबल्ड सेवाएं प्रदान की जा सकें। ई.आर.नेट इंडिया ने प्रमुख संस्थानों जैसे आई.आई.टी, आई.आई.एस. और सी.डेक के साथ मिलकर परियोजना की शुरुआत की है। प्रत्येक संस्थान को क्वालिटी ऑफ सर्विस  अवेयर एप्लीकेशन के विकास और अनुभव के लिए और नेटवर्किंग टेक्नोलॉजी अलग-अलग भूमिका सौंपी गई है। क्वालिटी ऑफ सर्विस की अवधारणा के परीक्षण और अनुभव के लिए डिस्टेंट लर्निंग / ई-लर्निंग हेतु आई.पी.टेलीफोनी और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग जैसी एप्लीकेशंस चुनी गई हैं। 

ई.आर.नेट इंडिया ने अपनी बैकबोन से 2 एमबीपीएस लिंक के साथ विभिन्न संस्थानों के बीच क्वालिटी ऑफ सर्विस इनेबल्ड नेटवर्क टैस्ट बैड की स्थापना की है।  समस्त भागीदार संस्थानों के पास नेटवर्क आर्किटेक्चर और नेटवर्क इंजीनियरी प्रक्रियाओं की फाइन-ट्यूनिंग है जिससे क्वालिटी ऑफ सर्विस आधारित नेटवर्क और इसकी सेवाओं की श्रेष्ठ प्रक्रियाओं को बढ़ावा मिलता है।  भागीदार संस्थान टैस्ट बैड पर परीक्षण और अध्ययन करने के लिए  लेबल स्विच पाथ (LSPs) के साथ एक-दूसरे से जुड़े होते हैं। ई.आर.नेट इंडिया ने सेवाएं प्रदान करने के लिए बैंडविड्थ पर बेहतर नियंत्रण सुनिश्चित करने के लिए अपनी बैकबोन पर एमपीएलएस को भी डिप्लॉय किया है और यह प्रोजेक्ट सफलतापूर्वक पूरा हो गया है।

नेटवर्क मॉनिटरिंग टूल

पिछले दशक में इंटरनेट की अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। यह पूरे विश्व में सूचना के आदान-प्रदान का एक प्राथमिक माध्यम बन चुका है। इंटरनेट पर संपर्क कर सकने की कार्यकुशलता से साइबर अपराध के लिए इसके उपयोग में आपराधिक तत्व भी आकर्षित हुए हैं। इंटरनेट और साइबर क्राइम के बढ़ते उपयोग से, समय के साथ-साथ ट्रैफिक, विशेषकर अवांछित विवरण को मॉनिटर करने की आवश्यकता भी बढ़ी है। असामाजित तत्वों द्वारा इंटरनेट के कानूनन उपयोग के विपरीत इसका एक टूल के रूप में उपयोग किया जाता है।

ई.आर.नेट इंडिया और आई.आई.टी., कानपुर द्वारा गैरकानूनी और अनधिकृत संपर्कों, जिनसे इंटरनेट पर साइबर अपराध में वृद्धि हो रही है, पर नजर रखने के लिए नेटवर्क मॉनिटरिंग टूल (NMT) विकसित किया गया है। नेटवर्क मॉनिटरिंग टूल का उपयोग इंटरनेट से विशिष्ट जानकारी एकत्र करने और उसे एक पठनीय प्रारूप में लाने के लिए किया जाएग। जांच एजेंसियों द्वारा इंटरनेट पर किन्हीं गैरकानूनी गतिविधियों के विरुद्ध सबूत जुटाने के लिए एकत्र डेटा का उपयोग किया जा सकता है।

यब टूलनॉन-इंस्ट्रक्टिव तौर पर ऑपरेट होता है और नेटवर्क में किसी डेटा के इंजेक्ट हुए बिना एक लिंक से गुजरने वाले समस्त पैकेटों की मॉनिटरिंग में सक्षम है। यह स्रोत आधारित सूचना/आईपी एड्रेस का गंतव्य, पोर्ट नंबर, लॉगिन-आई.डी., ई.मेल हैडर जैसे - संदेशों के विषय, ई-मेल एड्रेस, यूआरएल और टैस्ट स्ट्रिंग आदि को कैप्चर करता है।

अनुसंधान का मुख्य कार्य इंटरनेट पैकेट कैप्चरिंग की अन्वेषण करना, एलोग्रिद्म की फिल्टरिंग करना, पैकेटों की एनकोडिंग, सेक्योर और डेडिकेटिड रिमोट कंट्रोल के लिए सीरियल पोर्ट के माध्यम से डेटा कम्यूनिकेशन तथा कार्यनिष्पादन की जांच करना था।

ई.आर.नेट प्वाइंट ऑफ प्रेजेन्स पर नेटवर्क मॉनिटरिंग टूल डिप्लॉय और टैस्ट किया गया था तथा फील्ड ट्रायल के लिए सी.बीआई. को सौंपा गया था। नेटवर्क मॉनिटरिंग टूल की क्षमताओं के बारे में केबिनेट सचिवालय के प्रतिनिधि मंडल और टेलीकॉम विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुति दी गई थी। सदस्यों ने उत्पाद तथा इस प्रक्रिया में विकसित क्षमताओं के बारे में अपनी रुचि दिखाई।

Hindi